अदरक

 

सामान्य परिचय

'अदरक‘ शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा के स्ट्रिंगावेरा से हुई, जिसका अर्थ होता है, एक ऐसा  सींग या बारहा सिंधा के जैसा शरीर ।अदरक मुख्य रूप से उष्ण क्षेत्र  की फसल है । संभवत: इसकी उत्पत्ति दक्षिणी और पूर्व एशिया में भारत या चीन में हुई । भारत की अन्य भाषाओं में अदरक को विभिन्न नामो से जाना जाता है जैसे- आदू (गुजराती), अले (मराठी), आदा (बंगाली), इल्लाम (तमिल), आल्लायु (तेलगू), अल्ला (कन्नड.) तथा अदरक (हिन्दी, पंजाबी) आदि । अदरक का प्रयोग प्रचीन काल से ही मसाले, ताजी सब्जी और औषधी के रूप मे चला आ रहा है । अब अदरक का प्रयोग सजावटी पौधों के रूप में भी उपयोग किया जाने लगा है । अदरक के कन्द विभिन्न रंग के होते हैं । जमाइका की अदरक का रंग हल्का गुलाबी, अफ्रीकन अदरक (हल्की हरी) होती है ।

वानस्पातिक परिचय

अदरक (Ginger) का वानस्पतिक नाम जिनजिबेर ओफिसिनेल (Zingiber officinale) है जो जनजीबेरेसी (Zingiberace)परिवार से सम्बंध रखती है । अदरक की करीब 150 प्रजातियाँ उष्ण- एवॅ उप उष्ण एशिया और पूर्व एशिया तक पाई जाती हैं । जिनजीबेरेसी परिवार का महत्व इसलिऐ अधिक है क्योंकि इसको “मसाल परिवार“ भी कहा जाता है । जिसमें अदरक के अलावा इस परिवार में अन्य मसाले फसले जैसे - हल्दी, इलायची, बड़ी इलायची आदि बड़ी महत्वपूर्ण मसाला फसलें सम्मिलित है । इसी परिवार की कुछ जगंली प्रजातियाँ भी पाई जाती है जिनको अलपाइना (Alpinia) अमोनम (Amomum) में रखा गया है।

वितरण

भारत में अदरक की खेती का क्षेत्रफल 136 हजार हेक्टर है जो उत्पादित अन्य मसालों में प्रमुख हैं । भारत को विदेशी मुद्रा प्राप्त का एक प्रमुख स्त्रोत हैं । भरत विश्व में उत्पादित अदरक का आधा भाग पूरा करता हैं । भारत में हल्की अदरक की खेती मुख्यत: केरल, उडीसा, आसाम, उत्तर प्रदेश, पश्चिमी बंगाल, आंध्रप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश तथा उत्तराँचल प्रदेशों में मुख्य व्यवसायिक फसल के रूप में की जाती है । केरल देश में अदरक उत्पादन में प्रथम स्थान पर हैं ।

भारत में अदरक का क्षेत्रफल, उत्पादन एवं उत्पादकता

वर्ष 

क्षेत्रफल (हेक्ट.)000

उत्पादन (मैट्रिक टन)

उत्पादकता (मैट्रिक टन/हेक्ट.)

2009-2010

107.5

585.5

2.6

2010-2011

149.1

702.0

4.7

2011-2012

155.0

756.0

4.9

2012-2013

136.0

683.0

5.0


म.प्र. में अदरक का क्षेत्रफल उत्पादन एवं उत्पादकता

वर्ष 

क्षेत्रफल (हेक्ट.)000

उत्पादन (मैट्रिक टन)

उत्पादकता (मैट्रिक टन/हेक्ट.)

2011-2012

9.00

15.00

166

2012-2013

9.00

15.00

166

उपयोगिता

अदरक का प्रयोग मसाले, औषधिया तथा सौन्र्दय सामग्री के रूप में हमारे दैनिक जीवन में वैदिक काल से चला आ रहा हैं । खुशबू पैदा करने के लिये आचारो, चाय के अलावा कई व्यजंनो में अदरक का प्रयोग किया जाता हैं । सर्दियों में खाँसी जुकाम आदि में किया जाता हैं । अदरक का सोंठ कें रूप में इस्तमाल किया जाता हैं । अदरक का टेल, चूर्ण तथा एग्लिओरजिन भी औषधियो में उपयोग किया जाता हैं

औषधियों के रूप में- सर्दी-जुकाम, खाँसी ,खून की कमी, पथरी, लीवर वृद्धि, पीलिया, पेट के रोग, वाबासीर, अमाशय तथा वायु रोगीयों के लिये दवाओ के बनाने में प्रयोग की जाती हैं ।

मसाले के रूप में- चटनी, जैली, सब्जियो, शर्बत, लडडू, चाट आदि में कच्ची तथा सूखी अदरक का उपयोग किया जाता हैं ।
सौंदर्य प्रसाधन में- अदरक का तेल, पेस्ट, पाउडर तथा क्रीम को बनाने में किया जाता हैं ।

उत्पादन तकनीक

जलवायु:- अदरक की खेती गर्म और आर्द्रता वाले स्थानों में की जाती है । मध्यम वर्षा बुवाई के समय अदरक की गाँठों (राइजोम) के जमाने के लिये आवश्यक होती है । इसके बाद थोडा ज्यादा वर्षा पौधों को वृद्धि के लिये तथा इसकी खुदाई के एक माह पूर्व सूखे मौसम की आवश्यकता होती हैं । अगेती वुवाई या रोपण अदरक की सफल खेती के लिये अति आवश्यक हैं । 1500-1800 मि .मी .वार्षिक वर्षा वाले क्षेत्रों में इसकी खेती अच्छी उपज के साथ की जा सकती हैं । परन्तु उचित जल निकास रहित स्थानों पर खेती को भारी नुकसान होता हैं । औसत तापमान 25 डिग्री सेन्टीग्रेड, गर्मीयों में 35 डिग्रीसेन्टीग्रेड तापमान वाले स्थानो पर इसकी खेती बागों में अन्तरवर्तीय फसल के रूप मे की जा सकती हैं ।



भूमि:- अदरक की खेती बलुई दोमट जिसमें अधिक मात्रा में जीवाशं या कार्बनिक पदार्थ की मात्रा हो वो भूमि सबसे ज्यादा उपयुक्त रहती है । मृदा का पी.एस.मान 5-6 ये 6 .5 अच्छे जल निकास वाली भूमि सबसे अच्छी अदरक की अधिक उपज के लिऐ रहती हैं । एक ही भूमि पर बार-बार फसल लेने से भूमि जनित रोग एवं कीटों में वृद्धि होती हैं । इसलिये फसल चक्र अपनाना चाहिये । उचित जल निकास ना होने से कन्दों का विकास अच्छे से नही होता ।


खेती की तैयारी:- मार्च - अप्रैल में खेत की गहरी जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करने के बाद खेत को खुला धूप लगने के लिये छोड़ देते हैं । मई के महीने में डिस्क हैरो या रोटावेटर से जुताई करके मिट्टी को भुरभुरी बना लेते हैं । अनुशंसित मात्रा में गोवर की सड़ी खाद या कम्पोस्ट और नीम की खली का सामान रूप से खेत में डालकर पुन% कल्टीवेटर या देशी हल से 2-3 बार आड़ी-तिरछी जुताई करके पाटा चला कर खेत को समतल कर लेना चाहिये । सिचाई की सुविधा एवं बोने की विधि के अनुसार तैयार खेत को छोटी-छोटी क्यारियों में बाँट लेना चाहिये । अंतिम जुताई के समय उर्वरकों को अनुशंसित मात्रा का प्रयोग करना चाहिये । शेष उर्वरकों को खड़ी फसल में देने के लिये बचा लेना चाहिये ।



बीज (कन्द)की मात्रा:- अदरक के कन्दों का चयन बीज हेतु 6-8 माह की अवधि वाली फसल में पौधों को चिन्हित करके काट लेना चाहिये अच्छे प्रकन्द के 2 .5-5 सेमी .लम्बे कन्द जिनका वजन 20-25 गा्रम तथा जिनमें कम से कम तीन गाँठे हो प्रवर्धन हेतु कर लेना चाहिये। बीज उपचार मैंकोजेव फफूँदी से करने के बाद हीप्रर्वधन हेतु उपयोग करना चाहिये।

बुवाई के समय:- अदरक की बुबाई दक्षिण भारत में मानसून फसल के रूप में अप्रैल - मई में की जाती जो दिसम्बर में परिपक्क होती है । जबकि मध्य एवं उत्तर भारत में अदरक एक शुष्क क्षेत्र फसल है । जो अप्रैल से जून माह तक वुवाई योग्य समय हैं । सबसे उपयुक्त समय 15 मई से 30 मई हैं । 15 जून के बाद वुवाई करने पर कंद सड़ने लगते हैं और अंकुरण पर प्रभाव बुरा पड़ता हैं । केरल में अप्रैल के प्रथम समूह पर वुवाई करने पर उपज 200% तक अधिक पाई जाती हैं । वही सिचाई क्षेत्रों में वुवाई का सवसे अधिक उपज फरवरी के मध्य बोने से प्राप्त हुई पायी गयी तथा कन्दों के जमाने में 80% की वृद्धि आँकी गयी । पहाड़ी क्षेत्रो में 15 मार्चके आस-पास वुवाई की जाने वाली अदरक में सबसे अच्छा उत्पादन प्राप्त हुआ


बीज (कन्द)की मात्रा:- अदरक के कन्दों का चयन बीज हेतु 6-8 माह की अवधि वाली फसल में पौधों को चिन्हित करके काट लेना चाहिये अच्छे प्रकन्द के 2 .5-5 सेमी .लम्बे कन्द जिनका वनज 20-25 गा्रम तथा जिनमें कम से कम तीन गाँठे हो प्रवर्धन हेतु कर लेना चाहिये । बीज उपचार मैंकोजेव फफूँदी से करने के बाद ही प्रर्वधन हेतु उपयोग करना चाहिये । अदरक 20-25 कुंटल प्रकन्द/है. बीज दर उपयुक्त रहता हैं । तथा पौधों की संख्या 140000./है. पर्याप्त मानी जाती हैं । मैदानी भागो में 15 -18 कु ./है. बीजों की मात्रा का चुनाव किया जा सकता हैं । क्योंकि अदरक की लागत का 40-46: भाग बीज में लग जाता इसलिये वीज की मात्रा का चुनाव, प्रजाति, क्षेत्र एवं प्रकन्दों के आकार के अनुसार ही करना चाहिये ।
बोने की विधि एवं बीज व क्यारी अन्तराल

प्रकन्दों को 40 सेमी .के अन्तराल पर बोना चाहिये । मेड़ या कूड़ विधि से बुवाई करनी चाहिये । प्रकन्दों को 5 सेमी .की गहराई पर बोना चाहिये । बाद में अच्छी सड़ी हुई गोबर की खाद या मिट्टी से ढक देना चाहिये । यदि रोपण करना है तो कतार से कतार 30 सेमी .और पौध से पौध 20 सेमी .पर करे । अदरक की रोपाई 15*15, 20*40 या 25*30 सेमी .पर भी कर सकते हैं । भूमि की दशा या जल वायु के प्रकार के अनुसार समतल कच्ची क्यारी, मेड-नाली आदि विधि से अदरक की वुवाई या रोपण किया जाता है ।

(क) समतल विधि:- हल्की एवं ढालू भूमि में समतल विधि द्वारा रोपण या वुवाई की जाती हैं । खेती में जल निकास के लिये कुदाली या देशी हल से 5-6 सेमी .गहरी नाली बनाई जाती है जो जल के निकास में सहायक होती हैं । इन नालियों में कन्दों को 15-20 सेमी .की दूरी अनुसार रोपण किया जाता हैं । तथा रोपण के दो माह बाद पौधो पर मिट्टी चढ़ाकर मेडनाली विधि बनाना लाभदायक रहता हैं ।



(ख) ऊँची क्यारी विधि:- इस विधि में 1*3 मी. आकार की क्यारीयों को जमीन से 20 सेमी .ऊची बनाकर प्रत्येक क्यारी में 50 सेमी .चैड़ी नाली जल निकास के लिये बनाई जाती हैं । बरसात के बाद यही नाली सिचाई के कसम में असती हैं । इन उथली क्यारियों में 30ग20 सेमी .की दूरी पर 5-6 सेमी .गहराई पर कन्दों की वुवाई करते हैं । भारी भूमि के लिये यह विधि अच्छी है।


(ग) मेड़ नाली विधि:- इस विधि का प्रयोग सभी प्रकार की भूमियों में की जा सकती हैं । तैयार खेत में 60 या 40 सेमी .की दूरी पर मेड़ नाली का निर्माण हल या फावडे से काट के किया जा सकता हैं । बीज की गहराई 5-6 सेमी .रखी जाती हैं ।

रोपण हेतु नर्सरी तैयार करना:-

यदि पानी की उपलब्धता नही या कम है तो अदरक की नर्सरी तैयार करते हैं । पौधशाला में एक माह अंकुरण के लिये रखा जाता । अदरक की नर्सरी तैयार करने हेतु उपस्थित बीजो या कन्दों को गोबर की सड़ी खाद और रेत (50:50) के मिश्रण से तैयार बीज शैया पर फैलाकर उसी मिश्रण से ठक देना चाहिए तथा सुबह-शाम पानी का छिड़काव करते रहना चाहिये । कन्दों के अंकुरित होने एवं जड़ो से जमाव शुरू होने पर उसे मुख्य खेत में मानसून की बारिश के साथ रोपण कर देना चाहिये । 


बीज उपचार :-

प्रकन्द बीजों को खेत में वुबाई, रोपण एवं भण्डारण के समय उपचारित करना आवश्यक हैं । बीज उपचारित करने के लिये (मैंकोजेब .मैटालैक्जिल) या कार्बोन्डाजिम की 3 ग्राम मात्रा को प्रति लीटर के पानी के हिसाब से घोल बनाकर कन्दों को 30 मिनट तक डुवो कर रखना चाहिये । साथ ही स्ट्रप्टोसाइकिलन ध् प्लान्टो माइसिन भी 5 ग्राम की मात्रा 20 लीटर पानी के हिसाब से मिला लेते है जिससे जीवाणु जनित रोगों की रोकथाम की जा सके । पानी की मात्रा घोल में उपचारित करते समय कम होने पर उसी अनुपात में मिलाते जाय और फिर से दवा की मात्रा भी । चार बार के उपचार करने के बाद फिर से नया घोल वनायें । उपचारित करने के बाद बीज कों थोडी देर उपरांत वोनी करें ।

अछाया का प्रभाव :-

अदरक को हल्की छाया देने से खुला में बोई गयी अदरक से 25 प्रतिशत अधिक उपज प्राप्त होती है । तथा कन्दों की गुणवत्ता में भी उचित वृद्धि पायी गयी हैं । फसल प्रणाली:- अदरक की फसल को रोग एवं कीटों में कमी लाने एवं मृदा के पोषक तत्वो के बीच सन्तुलन रखने हेतु । अदरक को सिंचित भूमि में पान, हल्दी, प्याज, लहसुन, मिर्च अन्य सब्जियों, गन्ना, मक्का और मूँगफली के साथ फसल को उगाया जा सकता है । वर्षा अधिक सिंचित वातावरण में 3-4 साल में एकबार आलू, रतालू, मिर्च, धनियाॅ के साथ या अकेले ही फसल चक्र में आसकती हैं । अदरक की फसल को पुराने बागों में अन्तरवर्तीय फसल के रूप में उगा सकते हैं । मक्का या उर्द के साथ अन्तरावर्ती फसल लेने में मक्का 5-6 किग्रा / एकड़ .उर्द 10-15 किग्रा / एकड़ बीज की आवश्यकता होती हैं । मक्का और उर्द  अदरक की फसल को छाया प्रदान करती हैं । तथा मक्का 6-7 कु / एकड़ और उर्द 2 कु / एकड़ ।

छाया का प्रभाव :-

अदरक को हल्की छाया देने से खुला में बोई गयी अदरक से 25 प्रतिशत अधिक उपज प्राप्त होती है । तथा कन्दों कीी गुणवत्ता में भी उचित वृद्धि पायी गयी हैं ।

फसल प्रणाली:-

अदरक की फसल को रोग एवं कीटों में कमी लाने एवं मृदा के पोषक तत्वो के बीच सन्तुलन रखने हेतु । अदरक को सिंचित भूमि में पान, हल्दी, प्याज, लहसुन, मिर्च अन्य सब्जियों, गन्ना, मक्का और मूँगफली  ी के साथ फसल को उगाया जा सकता है । वर्षा अधिक सिंचित वातावरण में 3-4 साल में एकबार आलू, रतालू, मिर्च, धनियाॅ के साथ या अकेले ही फसल चक्र में आसकती हैं । अदरक की फसल को पुराने बागों में अन्तरवर्तीय फसल के रूप में उगा सकते हैं । मक्का या उर्द के साथ अन्तरावर्ती फसल लेने में मक्का 5-6 किग्रा / एकड़ .उर्द 10-15 किग्रा / एकड़ बीज की आवश्यकता होती हैं । मक्का और उर्द  अदरक की फसल को छाया प्रदान करती हैं । तथा मक्का 6-7 कु / एकड़ और उर्द 2 कु / एकड़ ।मक्का या उर्द के साथ अन्तरावर्ती फसल लेने में मक्का 5-6 किग्रा / एकड़ .उर्द 10-15 किग्रा / एकड़ बीज की आवश्यकता होती हैं । मक्का और उर्द  अदरक की फसल को छाया प्रदान करती हैं । तथा मक्का 6-7 कु / एकड़ और उर्द 2 कु / एकड़ ।

पलवार:-

अदरक की फसल में पलवार विछाना बहुत ही लाभदायक होता हैं । रोपण के समय इससे भूमि का तापक्रम एवं नमी का सामंजस्य बना रहता है । जिससे अंकुरण अच्छा होता है । खरपतवार भी नही निकलते और वर्षा होने पर भूमि का क्षरण भी नही होने पाता है । रोपण के तुरन्त बाद हरी पत्तियाँ या लम्बी घास पलवार के लिये ढाक, आम, शीशम, केला या गन्ने के ट्रेस का भी उपयोग किया जा सकता हैं । 10-12 टन या सूखी पत्तियाँ 5-6 टन/है. बिछाना चाहिये । दुबारा इसकी आधी मात्रा को रोपण के 40 दिन और 90 दिन के बाद विछाते हैं , पलवार विछाने के लिए उपलब्धतानुसार गोवर की सड़ी खाद एवं पत्तियाँ, धान का पूरा प्रयोग किया जा सकता हैं । काली पाॅलीथीन को भी खेत में बिछा कर पलवार का काम लिया जा सकता हैं । निदाई, गुडाई और मिट्टी चढाने का भी उपज पर अच्छा असंर पडाता हैं । ये सारे कार्य एक साथ करने चाहिये ।

निदाई, गुडाई तथा मिट्टी चढ़ाना:-

पलवार के कारण खेत में खरपतवार नही उगते अगर उगे हो तो उन्हें निकाल देना चाहिये, दो बार निदाई 4-5 माह बाद करनी चाहिये । साथ ही मिट्टी भी चढाना चाहिऐ । जब पौधे 20-25 सेमी .ऊँचीी हो जाये तो उनकी जड़ो पर मिट्टी चढाना आवश्यक होता हैं । इससे मिट्टी भुरभुरी हो जाती है । तथा प्रकंद का आकार बड़ा होता है, एवं भूमि में वायु आगमन अच्छा होता हैं । अदरक के कंद बनने लगते है तो जड़ों के पास कुछ कल्ले निकलते हैं । इन्हे खुरपी से काट देना चाहिऐ, ऐसा करने से कंद बड़े आकार के हो पाते हैं ।

पोषक तत्व प्रबन्धन

अदरक एक लम्बी अवधि की फसल हैं । जिसे अधिक पोषक तत्चों की आवश्यकता होती है । उर्वरकों का उपयोग मिट्टी परीक्षण के बाद करना चाहिए । खेत तैयार करते समय 250-300 कुन्टल हेक्टेयर के हिसाब से सड़ी हई गोबर या कम्पोस्ट की खाद खेत में सामन्य रूप से फैलाकर मिला देना चाहिए। प्रकन्द रोपण के समय 20 कुन्टल /है. मी पर से नीम की खली डालने से प्रकन्द गलब एवं सूत्रि कृमि या भूमि शक्ति रोगों की समस्याँ कम हो जाती हैं । रासायनीक उर्वरकों की मात्रा को 20 कम कर देना चाहिए यदि गोबर की खाद या कम्पोस्ट डाला गया है तो । संन्तुष्ट उर्वरको की मात्रा 75 किग्रा. नत्रजन, किग्रा. कम्पोस्टस और 50 किग्रा .पोटाश /है. हैं । इन उर्वरकों को विघटित मात्रा में डालना चाहिऐ (तालिका) प्रत्येक बार उर्वरक डालने के बाद उसके ऊपर मिट्टी में 6 किग्रा .जिंक/है. (30 किग्रा .जिंक सल्फेट) डालने से उपज अच्छी प्राप्त होती हैं ।

अदरक की खेती के लिये उर्वरको का विवरण (प्रति हेक्टयर)

उर्वरक

आधारीय उपयोग

40 दिन बाद

90 दिन बाद

नत्रजन - 

-

37.5 किग्रा.

37.5 किग.

फास्फोरस   

 50 किग्रा 

-

-

पोटाश

149.1

     

4.7

कमपोस्ट गोबर की खाद

250

300 कु.

25 किग्रा .

नीम की खली

2 टन

-

-

उन्नतशील प्रजातियों का चयन

भारत के विभिन्न प्रदेशो में  उगाई जाने वाली प्रजातियाँ

क्र.

राज्य

प्रजातियों के नाम

विशेषता

1.

आसाम

बेला अदा, मोरन अदा, जातिया अदा

छोटे आकार के कन्द तथा औषधिय उपयोग के लिये प्रयुक्त

2.

अरूणाचल प्रदेश

केकी, बाजार स्थानीय नागा सिंह,

थिंगिपुरी अधिक रेशा एवं सुगन्ध

3.

मणिपुर

नागा सिंह, थिंगिपुरी  

अधिक रेशा एवं सुगन्ध

4.

नागालैण्ड

विची, नाडिया

सोठ एवं सुखी अदरक हेतु

5.

मेघालय 

सिह बोई, सिंह भुकीर,काशी 

औषधिय उत्तम अदरक

6.

मेजोरम

स्थानीय,तुरा,थिंग पुदम, थिगंगिराव  

 रेशा रहित तथा बहुत चरपरी अदरक

7.

सिक्किम 

    भैसी  

अधिक उपज

उपज, रेशा तथा सूखी अदरक के आधार पर विभिन्न प्रजातियाँ

क्र.

प्रमुख प्रजातियाँ

औसत उत्पादन (किग्रा/हे.)

रेशा(%)

सूखी अदरक(%)

1.

रियो-डे-जिनेरियो

29350

5.19

16.25

2.

चाइना

25150 

3.43

15.00

3.

मारन

23225

10.04

 22.10

4.

थिंगपुरी

24475

7.09  20.00
5.

नाडिया

23900

8.13 20.40
6.

नारास्सपट्टानम

18521

4.64 21.90
7.

वायनाड

17447 4.32 17.81
8.

कारकल

12190 7.78 23.12
9. वेनगार 10277 4.63 25.00
10 आर्नड मनजार 12074 2.43 21.25
11 वारडावान 14439 2.22 21.90

ताजा अदरक, ओरेजिन,तेल, रेशा, सूखा अदरक एवं परिपक्क अवधि के अनुसार प्रमुख प्रजातियाॅ

प्रजाति

प्रजातियो के नाम

परिपक्क अवधि (दिन)

ओले ओरेजिन (%)

तेल(%)

रेशा(%)

सूखी अदरक(%)

आई.आई. एस. आर . (रजाता)

23.2

300

300

1.7

3.3

23

महिमा

22.4

200

200

2.4

4.0

19

वर्धा (आई आई.एस.आर )

22.6

200

6.7

1.8

4.5

20.7

सुप्रभा

16.6

229

8.9 1.9 4.4  20.5
सुरभि

17.5

225

10.2 2.1 4.0 23.5
सुरूचि

11.6

218

10.0 2.0 3.8 23.5
हिमिगिरी  

13.5

230 4.5 1.6 6.4 20.6

रियो-डे-जिनेरियो    

17.6

190 10.5 2.3 5.6 20.0

महिमा (आई.एस.आर.)   

22.4 200 19.0 6.0 2.36 9.0

विभिन्न उपयोग के आधार पर प्रजातियाँ के नाम

क्र.

प्रयोग

प्रजातियो के नाम

1.

सूखी अदरक हेतु  

कारकल, नाडीया, मारन, रियो-डी-जेनेरियो

2.

तेल हेतु     

स्लिवा, नारास्सापट्टाम, वरूआसागर, वासी स्थानीय, अनीड चेन्नाडी
3. ओलेरिजिन हेतु 

इरनाड, चेरनाड, चाइना, रियो-डी-जिनेरियो

4. कच्ची अदरक हेतु रियो-डे-जिनेरियो, चाइना, वायानाड स्थानीय, मारन, वर्धा

कीट अवरोधी.ध् सहनशील प्रजातियाँ

क्र.

कीटो के प्रति लक्षण 

प्रजाति

लक्षण

1.

तना भेदक 

रियो-डे-जिनेरियो  

सहनशील

2. कन्द स्केल वाइल्ड-21, अनामिका कम प्रभावित
3. भण्डारण कीट वर्धा,   एसीसी न. 215, 212    प्रतिरोधी
4.

स्ूत्रिकृमि (अदरक)

वालयूवानाड, तुरा और एस.पी.एसीसी न. 36, 59 और 221  

कम प्रभावित प्रतिरोधी

अदरककेहानिकारक रोग हेतु उपयोगी रासायनिक, फुफुंद नाशी की मात्रा

क्र.

रोग का नाम

फफुंद नाशी

प्रबन्धन

1.

पर्णदाग         

मैंकोजेव

2 मिली. प्रति लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करे ।

2. उकठा या पीलिया

मैंकोजेव + मैटालैक्जिल     

3मिली. प्रति लीटर पानी में घोलकर कन्दो को उपचारित करके वुवाई करे या खडी फसल में ड्रेनिचिंग करे ।

3. कन्द गलन

मैंकोजेव + मैटालैक्जिल     

3मिली. प्रति लीटर पानी में घोलकर कन्दरो उपचारित करके वुवाई करे या खडी फसल में ड्रेनिचिंग करे ।
4. जीवाणु उकठा

स्ट्रेप्पोसाइकिलिन   

200 पी. पी.एन के घोल को कन्दों को उपचारित करे ।


अदरक के हानिकारक कीटों हेतु उपयोगी रासायनिक, कीटनाशकों की मात्रा

क्र.

कीट का नाम

कीटनाशक

प्रबन्धन

1.

केले की माहुँ

क्लोरोपाइरिफॉस

 2 मिली. प्रति लीटर पानी

2. चइनीज गुलाब भृंग क्लोरोपाइरिफॉस  (5%)  धूल  25किग्रा/हे. वुवाई के खेत में डाले
3.

अदरक का घुन

क्लोरोपाइरिफॉस  (5%)धूल

25किग्रा/हे. वुवाई के खेत में डाले

4. हल्दी कन्द शल्क        क्लोरोपाइरिफॉस  (5%) 25किग्रा/हे. वुवाई के खेत में डाले
5. नाइजर शल्क   क्विनालफॉस  धूल 20 मिनट तक कन्दों को वोने और भण्डारन के पहले उपचारित करे
6. इलायची थ्रिप्स        डाइमेथोएट  2 मिली /ली. पानी के साथ छिडकाव करें
7. तना छेदक      डाइमेथोएट 2 मिली / ली. पानी के साथ छिडकाव करें
8. पत्ती मोडक       डाइमेथोएट 2 मिली / ली. पानी के साथ छिडकाव करें

खुदाई:-

अदरक की खुदाई लगभग 8-9 महीने रोपण के बाद कर लेना चाहिये जब पत्तियाँ धीरे-धीरे पीली होकर सूखने लगे । खुदाई से देरी करने पर प्रकन्दों की गुणवत्ता और भण्डारण क्षमता में गिरावट आ जाती है, तथा भण्डारण के समय प्रकन्दों का अंकुरण होने लगता हैं । खुदाई कुदाली या फावडे की सहायता से की जा सकती है । बहुत शुष्क और नमी वाले वातावरण में खुदाई करने पर उपज को क्षति पहुॅचती है जिससे ऐसे समय में खुदाई नहीं करना चाहिऐ । खुदाई करने के बाद प्रकन्दों से पत्तीयो, मिट्टी तथा अदरक में लगी मिट्टी को साफ कर देना चाहिये । यदि अदरक का उपयोग सब्जी के रूप में किया जाना है तो खुदाई रोपण के 6 महीने के अन्दर खुदाई किया जाना चाहिऐ । प्रकन्दों को पानी से धुलकर एक दिन तक धूप में सूखा लेना चाहिये । सूखी अदरक के प्रयोग हेतु 8 महीने बाद खोदी गई है, 6-7 घन्टे तक पानी में डुबोकर रखें इसके बाद नारियल के रेशे या मुलायम व्रश आदि से रगड़कर साफ कर लेना चाहिये । धुलाई के बाद अदरक को सोडियम हाइड्रोक्लोरोइड के 100 पी पी एम के घोल में 10 मिनट के लिये डुबोना चाहिऐ । जिससे सूक्ष्मे जीवों के आक्रमण से बचाव के साथ-साथ भण्डारण क्षमता भी बड़ती है।अधिक देर तक धूप ताजी अदरक (कम रेशे वाली) को 170-180 दिन बाद खुदाई करके नमकीन अदरक तैयार की जा सकती है । मुलायम अदरक को धुलाई के बाद 30 प्रतिशतनमक के घोल जिसमें 1% सिट्रीक अम्ल में डुबो कर तैयार किया जाता हैं । जिसे 14 दिनों के बाद प्रयोग और भण्डारण के योग हो जाती है ।

भण्डारण-

ताजा उत्पाद बनाने और उसका भण्डारण करने के लिये जब अदरक कडी, कम कडवाहट और कम रेशे वाली हो, ये अवस्था परिपक्व होने के पहले आती है। सूखे मसाले और तेल के लिए अदरक को पूण परिपक्व होने पर खुदाई करना चाहिऐ अगर परिपक्व अवस्था के वाद कन्दो को भूमि में पडा रहने दे तो उसमें तेल की मात्रा और तिखापन कम हो जाऐगा तथा रेशो की अधिकता हो जायेगी । तेल एवं सौठं बनाने के लिये 150-170 दिन के बाद भूमि से खोद लेना चाहिये । अदरक की परिपक्वता का समय भूमि की प्रकार एवं प्रजातियो पर निर्भर करता है । गर्मीयों में ताजा प्रयोग हेतु 5 महिने में, भण्डारण हेतु 5-7 महिने में सूखे ,तेल प्रयोग हेतु 8-9 महिने में बुवाई के बाद खोद लेना चहिये ।बीज उपयोग हेतु जबतक उपरी भाग पत्तीयो सहित पूरा न सूख जाये तब तक भूमि से नही खोदना चाहिये क्योकि सूखी हुयी पत्तियाॅ एक तरह से पलवार का काम करती है । अथवा भूमि से निकाल कर कवक नाशी एवं कीट नाशीयों से उपचारित करके छाया में सूखा कर एक गडडे में दवा कर ऊपर से बालू से ढक देना चाहिये।
उपज-

ताजा हरे अदरक के रूप में 100-150 कु. उपज/हे. प्राप्त हो जाती है । जो सूखाने के बाद 20-25 कु. तक आ जाती हैं । उन्नत किस्मो के प्रयोग एवं अच्छे प्रबंधन द्वारा औसत उपज 300कु./हे. तक प्राप्त की जा सकती है।इसके लिये अदरक को खेत में 3-4 सप्ताह तक अधिक छोड़ना पडता है जिससे कन्दों की ऊपरी परत पक जाती है । और मोटी भी हो जाती हैं।