फसल सिफारिशें
खरीफ फसल - अरहर

उर्वरक प्रबंधन

  • उर्वरक को 5 से 7 से.मी. जमीन से नीचे डाले।
  • सीड ड्रिल या दुफन की सहायता से उर्वरक डालें।
  • 20 कि.ग्रा. नत्रजन 60 कि.ग्रा. फास्फोरस को बेसल मात्रा में मिलाएँ।
  • उपरोक्त उर्वरक की मात्रा 125 कि.ग्रा. डी.ए.पी. से पूरी हो जाती है।
  • अगर भूमि में जस्ते की कमी हो तो जिंक सल्फेट 25 कि.ग्रा. हल्की मिट्टी और 50 कि.ग्रा. भारी मिट्टी में मिलाए।
  • उपज बढ़ाने के लिए एवं जड़ों को मजबूत करने के लिए 20 कि.ग्रा/ हे की दर से सल्फर डाले।

अन्तर सस्य क्रियायें

  • कुल्पा या डोरा चला के कतारों के बीच के खरपतवार नाश करें।
  • हाथ से उखाड़कर या खुरपी चलाकर पौधों के बीच के नींदा भी नष्ट करें।
  • बोनी के 25 से 30 दिन के बाद पहली निदाई एवं 45-50 दिन के पश्चात दूसरी निदाई करें।
  • यदि वर्षा में कमी हो तो मल्च डालकर या मिट्टी चढ़ाकर सतह की नमी को संरक्षित करें।

सिंचाई प्रबंधन

  • इस फसल को सामान्यत: सिंचाई की आवश्यकता नहीं पड़ती है।
  • एक सिंचाई उपलब्ध होने पर फूल आने पर सिंचाई करें।