फसल सिफारिशें
खरीफ फसल - असिंचित लोलेन्ड धान

उर्वरक प्रबंधन

  • असिंचित लोलेन्ड धान के लिए उर्वरक की उपयुक्त मात्रा इस प्रकार से है।
  • फास्फोरस 40-50 कि.ग्रा./हे
  • पोटाश 50 कि.ग्रा./हे
  • नत्रजन 40-50 कि.ग्रा./हे ( 3 भागों में)
  • सूक्ष्म पोषक तत्व जिंक के लिए 40 कि.ग्रा./हे जिंक सल्फेट का उपयोग तीन साल में सामान्य से उदासीन मिट्टी के लिए डालें।
  • अम्लीय क्षारीय भूमि के लिए 100 कि.ग्रा./हे जिंक सल्फेट तीन साल में डाले।
  • जहां टॉप डेसिंग ज्यादा पानी जमाव के कारण संभव न हो वहां नत्रजन उर्वरक को बोनी के समय नीम केक डामर की परत चढ़ी यूरिया का उपयोग करें।
  • जैविक खाद जैसे नील हरित शैवाल या एजोला के द्वारा 20-25 कि.ग्रा. नत्रजन /हे की प्राप्ति होती है।
  • नील हरित शैवाल या एजोला को उगाने के लिए फॉस्फोरस ( 4-20 कि.ग्रा. फास्फोरस पेंटाऑक्साइड /हे एवं मौलीबिडनम ( 2 मि.ग्रा. सोडियम मौलीबिडेट- का उपयोग करें।)
  • दूसरी विधि में एजोला को उगाने के लिए ठहरे हुए पानी में 1 टन /हे एजोला को रोपाई के 7 दिन बाद खेत में मिलाए। 15 दिन बाद यह एक जाल बना लेता है जिसे भूमि में मल्चिंग के द्वारा मिलाए।
  • नील हरित शैवाल के लिए 10 कि.ग्रा./हे नील हरित शैवाल को ही खेत में रोपाई के बाद मिलाए।
  • ील हरित शैवाल एवं एजोला को पूरे वर्ष प्राप्त करने के लिए छोटी सीमेंट की टंकी या नली में रखा जा सकता है।
  • नील हरित शैवाल को रोपाई के 1 सप्ताह बाद देना चाहिए।
  • नील हरित शैवाल का उपयोग करते समय खेत में 10 से 15 से.मी. पानी रहना चाहिए।
  • फास्फोरस की अनुमोदित मात्रा को मिलाए।
  • एक तिहाई नत्रजन की मात्रा को खेत में दे।

सिंचाई प्रबंधन

  • यह वर्षा पर आधारित असिंचित फसल है।
  • फसल की क्रान्तिक अवस्थायें निम्नलिखित है और इन अवस्थाओं में फसल को सूखे से बचाना चाहिए।
  • अंकुरण, कल्ले फूटना, बाले निकलना, बूटिंग एवं हेडिंग।
  • लगभग 40 प्रतिशत क्षेत्रों में धान को इस विधि द्वारा उगाया जाता है।

अन्तर सस्य क्रियायें

  • खेत में पानी जमाव की स्थिति में अन्तरसस्य क्रियाओं की आवश्यकता नहीं होती।
  • पानी जमाव न रहने की स्थिति में जहां पर नींदा का प्रकोप हो वहां रोपाई के 25-45 दिन बाद निदाई करना चाहिए।