फसल सिफारिशें

खरीफ फसल - कुटकी

रोग प्रबंधन - कुटकी

रोग ग्रेन स्मट

हिन्दी नाम कंडुआ रोग  

कारक जीवाणु -
लक्षण एवं क्षति

  1. कूटकी की ग्रसित बालियां काले रंग के पुन्ज में बदल जाती है।
  2. दानों का आकार नहीं बढ़ता है।
  3. देर से आए दाने हरे और आकर में बढ़ सकते है।
नियंत्रण

  1. बेवीस्टीन या बीटाबेक्स या क्लोरोथेलोनिल 2 ग्राम/ हे से बीज उपचारित करें।
आई.पी. एम
  1. समय पर बोनी करें।
  2. प्रमाणित बीजों का उपयोग करें।
  3. उर्वरक की संतुलित मात्रा का उपयोग करें।