फसल सिफारिशें

रबी फसल - अल्सी

आई. पी. एम

  • खेत से पौधे के अवशेष अलग कर दें।
  • रोग मुक्त बीजों का उपयोग करें।
  • गहरी जुताई करनी चाहिए।
  • गेहूँ, चना की अन्तरवर्तीय फसल अलसी के साथ ले।
  • अत्याधिक सिंचाई करने से बचे।
  • अत्याधिक नत्रजन का उपयोग न करे।
  • रोग प्रभावित खेतों में फसल चक्र अपनाए।
  • रोग रहित सीड बेड का उपयोग करें।
  • खाद व उर्वरक का सतुंलित मात्रा में उपयोग करें।

अलसी के लिए एकीकीकृत कीट प्रंबधन :-

  • गर्मी में गहरी जुताई करें।
  • खेत में हेलीकोवरपा के लिए साप्ताहिक निरीक्षण करें।
  • प्रकाश और फेरामोन ट्रेपृ का ( 5 से 7 टे्रप/हे-ज्ञतनजप क्मअ 010 अमय का उपयोग करें।
  • समय पर बोनी करें।
  • गेहूँ या चने के साथ अन्तरवर्तीय फसल लें।
  • कतार से कतार की दूरी 30 से.मी. रखें।
  • लेडी बर्ड बीटल, क्राईसोपा, स्टीन्क बग का संरक्षण करें।

कटाई एवं गहाई

कटाई :-
  • जब पौधों की पत्तियां सूख जाए बौड़ियां भूरी पड़ जाए एवं दाने चमकीले हो जाए उस समय फसल की कटाई कर लेना चाहिए।
छटाई:-
  • कटाई के बाद लकड़ी या बैलों से दाऊन करें।
  • यह दानों को फल्लियों से अलग करने में सहायक होता है।
उठावनी :-

जानकारी उपलब्ध नहीं है